Skip to main content

जुगनू



वो मुझसे मिली ना थी पर उसे खो देने का डर मुसलसल बना हुआ था.... वो रास्ता चलते किसी किताब में जिल्द की जगह आइना लगी मिली थी... गाहे बगाहे मैं जिसे पढ़ने के बाद आपका अक्स देख लिया करता था, सर पर धूप थी और इन दिनों पेड़ों के झुरमुट से थोड़ी थोड़ी छांह भी लग जाती थी...


"जरा सी फिकर भी तुम्हारे चेहरे को बिगाड़ देते हैं, देखो जरा मैथ के रफ का पन्ना लग रहे हो...

हाँ तो ठीक ही तो है, तुम्हारी हथेली भी तो ऐसी ही है...ढेर सारी आरी तिरछी लाइनें

पर यह चेहरा नहीं है बेवकूफ

क्या सच में ?

मेरे वजूद में बिना दस्तक कई चीजें आती हैं... और आती क्या हैं फिर डेरा जमा लेती हैं... मैं जबरदस्ती जब भी तुम्हारी कल्पना करता हूँ कोशिश करता हूँ कि तुम्हारे जुल्फों के पार देख सकूँ... पर उस पार कितना अँधेरा है...

... तुमसे परे जो है.

सीढियों पर जब भी उसे अपने आगोश में लेने के लिए बाहों से घेरा डालता, पता नहीं क्यों, हर बार उसे यही लगा जैसे अब चूमने ही वाला हूँ... मैं चाहता था वो मेरी आँखों में देखे और वो चाहती थी उसके होंठों के दरारों से बातें करूँ... मैं जब भी उसके बिना जीने की सोचता तब भी वो पहले शामिल हो जाती.

आसमानी रंग आँखों का धोखा ही तो होता है .

पिछली बार इसी रंग में मुझे उजली धारियां दिखी थी. लंबे लंबे, दूर तक ....बहोत दूर तक... जैसे सुखोई या मिग -२१ धुंआ छोड़ता निकल गया हो.

इन दिनों जब मुझे मुहब्बत एक वाहियात सा फुर्सत में निपटाया गया काम लगता है... चलते हुए मैं अपनी परछाई खो चुका हूँ ... मेरी आँखों में दोनों हाथों के हथेली जितनी नींद भरी हुई है और ढेर सारा नशा ऐसे मैं कहाँ संभव था की मैं तुम्हें अपने आँखों में बसा कर रखूँगा...

मैं पलकें बंद करता हूँ तुम गिर जाती हो.

अच्छा बताओ चूमने के लिए सबसे खूबसूरत जगह कौन सी है ? रेडिफ पर जब किसी ने ये यह सवाल पूछा था तो सबसे ज्यादा वोट्स मुझे ही मिले थे, याद है तुम्हें....

हाँ याद है और ऐसे ही हम करीब आये थे... असम के कामाख्या मंदिर में एक घंटी बजी थी...

आखिरी बार जब फोन पर मैं तुम्हारा माथा चूमना चाहा था

उस्सरत आहा !, एटा सुम्मा दिया(मेरे पास आओ और एक चुंबन दो)

आं हां ! सिर्फ.....पलकों पर.

आह !

क्या हुआ ?

सीने में एक बिस्किट का पैकेट रख्खा था... चूर चूर हो गया, लगता है..."

Comments

  1. Bahut sundar kathanak aur kathya!

    ReplyDelete
  2. संवेदनशील रचना। बधाई।

    ReplyDelete
  3. संवेदनशील...रचना तो है ही...मगर तुम एक छोटे से "अनुभव" को..बेहद खूबसूरती से पिरोते हो...ये अच्छा लगा..पहली बात तो मैं चित्र से प्रभवित हुआ, शीर्षक और रचना के बीच का क्या सामंजस्य तुम बना रहे थे वो भी पसंद आया..सबसे अधिक "अच्छा बताओ चूमने के लिए सबसे खूबसूरत जगह कौन सी है ? रेडिफ पर जब किसी ने ये यह सवाल पूछा था तो सबसे ज्यादा वोट्स मुझे ही मिले थे, याद है तुम्हें...."

    और

    सीने में एक बिस्किट का पैकेट रख्खा था... चूर – चूर हो गया, लगता है..."....
    ******************************
    तुमने मेरे ब्लॉग में कमेन्ट की शर्त के मुताल्लिक कुछ लिखा है...वो उनके लिए है, जो मेरे किसी भी रचना के किसी भी स्तर को सिर्फ दो शब्दों से नापते है, वो अपने ब्लॉग्स में कमेन्ट की अपेक्षा लिए, हर ब्लोग्स में "बधाई" जैसे शब्दों को दिए फिरते हैं...तुमसे मुझे कोई शिकायत नहीं है...और न मैं तुम्हारे ज्ञान का स्तर जानना चाहता हूँ...तुम्हारी रचनायें मुझे पसंद है...रवि,अनुराग,और तुम्हारे ब्लॉग को मैं सबसे अधिक पढता हूँ..

    ReplyDelete
  4. चुनाचे ...मै यही कहता हूँ...एक हिन्दुतान वालो किसी लेखक की रोजी रोटी का सही जुगाड़ कर दो....ताकि उसका लिखना उसका सोचालय....रोजमर्रा की ज़द्दोज़हद में गम न हो जाये ......तुमने फिर साबित किया के एक अच्छा पढने वाला ..कैसे वेरिएशन देता है लिखने में ...
    i like your way.bold..and beautiful ..
    कल मुनीश का एक लेख पढ़ा था .उस पर टिपण्णी नहीं कर पाया ...मस्त लगा मुझे....ब्लोगिंग का सही इस्तेमाल

    ReplyDelete
  5. सोच कहाँ से शुरू करके कहाँ तक ले गये.. रेडिफ वाला सवाल डालना क्रिएटिव थोट था.. बिस्किट का पैकेट भी जबरदस्त था..
    कुछ दिन पहले जयपुर के लिटरेचर फेस्टिवल में ये सवाल उठा था कि उर्दू शायरी में नए शब्दों का प्रयोग नहीं होता.. हालाँकि शीन साहब, जावेद अख्तर और गुलज़ार साहब ने कुछ नए शब्दों वाले शेर भी सुनाये थे.. खैर! मुझे लगता है साहित्य में भी अब नए शब्दों का चलन हुआ है.. एक ट्रेंड सेट हो रहा है.. और तुम्हारी ये पोस्ट उसमे एक एड ऑन है.. हाँ दर्पण की रचनाये भी इसी किस्म की उपज है.. बोले तो खालिस सोना है..

    ReplyDelete
  6. इस कहानी के कितने वाक्यों से इत्तिफाक रखती हूँ कह नहीं सकती. तस्वीर से जिन्दा होती है एक शख्सियत और लफ्ज़ दर लफ्ज़ जिस्म पर पैरहन डाले जाती है.

    खुलते छिपते मायने, दिखती और कभी उस दरख़्त के पीछे छिपता एक आवारा उड़ा हुआ मैथ के रफ का पन्ना...पहला पैरा इतना खूबसूरत और कोट करने लायक है कि क्या कहें.

    "तुमसे परे जो है" कितने दिलफरेब ऐसे जुमले हैं इस कहानी में, एक लम्हे के कितने रंग...

    अनुराग जी से पूरी तरह सहमत हूँ...तुम जैसे लोगों के पास इफरात समय होना चाहिए...इस सोचालय का दरवाजा खोल कर कहानियां आती रहनी चाहिए.

    कहानी अद्भुत है, शब्द में, शिल्प में, कथानक में...बस क्या कहूँ.

    ReplyDelete
  7. वाकई.., मगध में कमी नहीं है विचारों की..

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

            आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, “ अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है ” . युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने ‘ बिराज बहू ’ , ‘ देवदास ’ , ‘ सुजाता ’ और ‘ बंदिनी ’ जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं . ‘ दो बीघा ज़मीन ’ को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था “ इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात

विलंबित ताल

हर ताल विलंबित है। हर कदम लेट है। कदम के रूप में एक पैर उठता है तो दूसरी ज़मीन पर रखने की दर लेट है। पेड़ों के पत्ते एक बार जब झूम कर बांए से दाएं जाते हैं तो उनका फिर से दांए से बांयी ओर जाना लेट है। आदमी घर से निकलने वाला था पर लेट है। स्टेशन से गाड़ी खुलने में लेट है। बहुत मामले रूके पड़े हैं और उनपर कार्यवाई लेट है। दफ्तर में टेबल से फाइलों का सरकना रूका है। चमत्कार होना रूका हुआ है। प्रेम होना तक मुल्तवी है। की जा रही प्रतीक्षा भी होल्ड पर है। बारिश रूकी हुई है। जाम से शहर रूका हुआ है। गाए जाने वाला गीत भी जुबां पर रूका है। किसी से कुछ कहना रूका है। किसी से झगड़ लेने की इच्छा रूकी है। किसी के लिए गाली भी हलक में रूकी हुई है। बाप से बहस करना रूक गया है। मां को घर छोड़कर भाग जाने की धमकी भी पिछले कुछ महीनों से नहीं दी गई है। लिखना रूका है। पढ़ना ठप्प है। जीना रूका पड़ा है। पेड़ों पर के पत्ते रूके हुए हैं। आसमान में चांद रूक गया है। किसी का फोन पर हैलो बोलकर रूकना, रूक गया है। कुछ हो रहा है तो उसका एहसास होना रूक गया है। सिगरेट जल्दी खत्म होना रूक गया है। बारिश अपने ब

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियां   महाराष्ट्र   तक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता में   हीरालाल सेन और जमशेद जी मदन   भी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों में   प्रदर्शित   होकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों में   प्रदर्शित   करें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारा   निर्देशित   फिल्म ' बिल्म मंगल '   तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहला   प्रदर्शन   नवम्बर , 1919 में हुआ।   जमदेश जी मदन ( 1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।   वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंने   कलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेस   बनाया। यह सिनेमाघर आ