Skip to main content

लिखना...

-2-

Comments

  1. डाक्टर्स वाली राइटिंग नहीं पढ़ी जा रही... :-)कोई मेडिसन शॉप वाले ही पढ़ सकते है.. :-)

    ReplyDelete
  2. कहाँ कोने में बैठ कर कलम घिसी है ..पर बढ़िया लिखा है

    ReplyDelete
  3. अमाँ मियाँ, तुम्हारी खुरापतें कब कम होंगी, दिन ब दिन बढती ही जा रही हैं...

    टाइप ही कर देते ....खैर, खुदा तुम्हें ख़ुश रक्खे

    ReplyDelete
  4. @ डिम्पल,

    पेज पर क्लिक कर उसे बड़ा कर के पढ़े, संभव जो कुछ बात और जोड़ें, लिखा हुआ पढ़ पाने लायक तो है ही.

    ReplyDelete
  5. Sagar...wapas poore form me aa gaye ho. kya kahun...badhai?

    sochne aur kalam se likhne me aisa kamaal ka talmel mere liye irshya ka vishay hai...bina kaate-peete ek baar mein aisa likhte ho.

    Gazab to khair likhte hi ho

    ReplyDelete
  6. बलिहारी जाऊं इस लाइन पर.."थकान से पहले लिखना और फिर इसके बाद लिखना; दोनों में फर्क है..और यह फर्क बुनियादी तौर पर है.."

    सागर भाई ...शायद आज आपने आत्म-परिचय दिया है. अद्भुत. मुझे साफगोई इतनी अच्छी लगती है ना कि उस पर व्याकरण का हर शिल्प न्योंछावर...!

    तो सागर भाई, लिखना मजबूरी है यार चाहे लिखा जाय..या नही..चाहे कुछ बन पड़े..या उधड़ जाए...है ना.!

    ReplyDelete
  7. प्रेजेंटेशन के लिए अलग से बधाई देना चाह रहा हूँ..! ले लो.!

    ReplyDelete
  8. बहुत अच्छा है... श्रीश की बात से सहमत.

    ReplyDelete
  9. ये अंदाज़ भी खूब रहा। मुझे भी कई सारे आइडिया दे गये तुम। लेकिन ये ज्यादती नहीं है अपने पाठकों के साथ...कि पहले उस पर क्लीक करके उसे पढो उर फिर वापस बैक बटन क्लीक कर वापस आओ कमेंट करने...? शैतान कहीं के...

    फिर भी पढ़ा, तुम्हारे लिखने का वायस समझा और इस चक्कर में खुद उलझ गया कि मैं क्यों लिखता हूँ। हाँ, तुम्हारी हस्तलिपि प्रभावित करती है।

    ReplyDelete
  10. भई अपनी समझ उतनी व्यापक तो ही..यह जरूर समझ आता है कि लिखने के बावत बड़ी अहम और गूढ़ बाते शेयर की गयी हैं..यह टॉपिक भी बड़ा दुर्गम लगता है..कितने बड़े-बड़े लोगों ने बड़ी-बड़ी बातें कहीं है पहले भी इसके बाबत..मगर फिर भी लिखने के मायने और उसका सबब सब समझ नही पाये..अपन भी उनमे से एक हैं..मगर अच्छा लगता है कि अपने साथ का कोई उन गूढ़ताओं को परत-दर-परत तराशता है..चाजें कुछ-कुछ समझ आने लगती हैं..लिखा मगर फिर भी कुछ नही जाता...बस वही जो आपने कहा..खुद को खो देना..फिर खुद पनाह पाना....और क्या!!

    ReplyDelete
  11. पढ़ कर तो भूल जाएगा ...दीवार पर सही रहेगा.... जब-जब अंगुलियाँ लिखना भूलने लगें उन्हे याद दिलाने को.. :-)

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

उसने दिल पर चीरा लगाकर उसमें अपने होंठों का प्राणवान चुम्बन के बिरवे रोप दिए।

सौ तड़कती रातें हैं फिर एक मिलन का दिन है। एक हज़ार बद्दुआएं हैं, फिर नेमत की एक घनघोर बारिश है। बारिश कम है जीवन में, प्यास अधिक। इतनी अधिक कि कई बार बारिश के दिन भी प्यास नहीं बुझती। लगातार लगती प्यास हमें मारती है, पत्थर बनाती है। सूखे प्यास का नमी भरा एहसास बारिश वाले दिन ही होता है। दरअसल आज जब मेरी प्यास बुझ रही थी तब मुझे अपने प्यासे होने का सही अर्थ संदर्भ सहित समझ में आया। xxx उसका हाथ अपने हाथ में लिया तो एक ढाढस सा लगा जैसे कोई एक सक्षम व्यक्ति कारगर उपाय बता रहा हो। वो अनपढ़ जाने किस तरह की शिक्षित है कि वह मुझ जैसे अहंकारी में भी कृतज्ञता का भाव पैदा कर देती है। xxx हमने बहुत कोशिश की एक होने की। लेकिन इसी प्रयास में हमारा यह विश्वास पुख्ता हुआ कि हमें एक दूसरे की जरूरत हमेशा रहेगी और हम अधूरे ही रहेंगे। यहां तक कि जिस जिस चुंबन में हमने अपने आप को पूरा समेट कर एक दूसरे में उड़ेल दिया, वहीं वहीं हमें अपने विकलांगता का एहसास हुआ। xxx कोई मां बाहर अपने बच्चे को मार रही है। बच्चा ज़ोर ज़ोर से किकियाए जा रहा है। मां गुस्से में उसे और धुन देती है। बच्चे

समानांतर सिनेमा

            आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, “ अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है ” . युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने ‘ बिराज बहू ’ , ‘ देवदास ’ , ‘ सुजाता ’ और ‘ बंदिनी ’ जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं . ‘ दो बीघा ज़मीन ’ को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था “ इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात

विलंबित ताल

हर ताल विलंबित है। हर कदम लेट है। कदम के रूप में एक पैर उठता है तो दूसरी ज़मीन पर रखने की दर लेट है। पेड़ों के पत्ते एक बार जब झूम कर बांए से दाएं जाते हैं तो उनका फिर से दांए से बांयी ओर जाना लेट है। आदमी घर से निकलने वाला था पर लेट है। स्टेशन से गाड़ी खुलने में लेट है। बहुत मामले रूके पड़े हैं और उनपर कार्यवाई लेट है। दफ्तर में टेबल से फाइलों का सरकना रूका है। चमत्कार होना रूका हुआ है। प्रेम होना तक मुल्तवी है। की जा रही प्रतीक्षा भी होल्ड पर है। बारिश रूकी हुई है। जाम से शहर रूका हुआ है। गाए जाने वाला गीत भी जुबां पर रूका है। किसी से कुछ कहना रूका है। किसी से झगड़ लेने की इच्छा रूकी है। किसी के लिए गाली भी हलक में रूकी हुई है। बाप से बहस करना रूक गया है। मां को घर छोड़कर भाग जाने की धमकी भी पिछले कुछ महीनों से नहीं दी गई है। लिखना रूका है। पढ़ना ठप्प है। जीना रूका पड़ा है। पेड़ों पर के पत्ते रूके हुए हैं। आसमान में चांद रूक गया है। किसी का फोन पर हैलो बोलकर रूकना, रूक गया है। कुछ हो रहा है तो उसका एहसास होना रूक गया है। सिगरेट जल्दी खत्म होना रूक गया है। बारिश अपने ब