Skip to main content

... और कतरनें


अंदर/कमरा/शाम साढ़े सात बजे.

बोरीवोली के इस खोली में पढाई करना उतना ही मुश्किल है जितना के दादर के एक कमरे में धोती को दीवार बनाकर दो परिवारों का रहना या फिर अँधेरी के एक सूखे नाले में किराये देकर चार-चार घंटे की नींद लेना...  तिस पर से किरासन तेल से जलता, गंदला सा लालटेन, मध्धम पीली सी रौशनी और ताख पर रखी बेअदबी और बेतरतीबी से रखी किताबें.

किताबें... हाँ साहिबान... किताबें. सस्ती-महंगी किताबें, चोरी की किताबें, उठाई गई किताबें, छिनी गई किताबें, मांगी गई किताबें, रख ली किताबें, छुपा ली गई किताबें, चाटी गई किताबें, ओझल हो गई किताबें, नूर बरसाती किताबें, रुलाती-गुदगुदाती किताबें, स्वस्थ किताबें, उबकाई देती किताबें, काम की किताबें, निठल्ली किताबें, बेगैरत किताबें, उठती किताबें, गिरती किताबें फिर उनपर गिरती किताबें, कसाई किताबें,  गालियाँ सुनवाती किताबें, कोसते दोस्तों की किताबें, मुहब्बत की किताबें, आसमानी किताबें, अपनी किताबें, परायी किताबें, इठलाती किताबें, हालत पर रोती, मुस्काती किताबें, मगरूर किताबें, पन्ने फड़फड़ाती किताबें, दीमक लगी किताबें, वाहियात किताबें, दंगाई किताबें, अमनी किताबें, सिखाती किताबें, बिगाड़ती किताबें... पर किताब महज़ इक शब्द है या आबेहयात साहब... गोया अपने आप में ही एक बीमारू आइडेंटिटी है... आप नाम ले कर तो देखिये आपको भी बीमार बना देगी...


बाहर/पार्क/शाम-तकरीबन चार बजे

अमृता ने कान में सोने की बालियाँ पहनी है... मैं उनमें ऊँगली घुमाते हुए कहता हूँ तुम्हारा बाप सचमुच चोर था. अगली चिठ्ठी में वो लिखती है साले, इस अंदाज़ से तो तुमने मेरी तारीफ़ भी नहीं की थी, याद है तब मैं कटे शीशम की तरह गिरी थी !

हम दोनों हरी दूब पर लेट कर आसमान देख रहे हैं... फिलहाल हमपे आसमान गिरा है. उहापोह की स्थिति है मैं क्या संभालूं क्या नहीं.


बाहर/सड़क/दोपहर/करीब एक बजे

आज के डेट में पचास लड़का किसी कॉलेज से घसीट के लाइए... और यहीं डाकबंगला चौराहा पर सबको गोली से उड़ा दीजिए, कोई आंदोलन नहीं होगा, मेरा गाईरेंटी है.

मेरे मित्र जब यह बात उत्तेजना में कहते हैं तो एक इंकलाबी मुहिम में शामिल हुआ युवा, पेट्रोल के बढे दाम पर  एक चुनावी दल के बिहार बंद के आह्वान पर कहता है मादरच*** केंद्र में समर्थन करता है यहाँ के लोग को चूतिया बना रहा है... हम लोग जो मुख्य विपक्षी हुआ करते थे, इसी के कारण आज हासिये (सही पढ़ा) पर चले गए हैं


बाहर/गली/ सुबह दस बजे

मैं बारिश के कोहसारों से बीच घिरा हूँ, छोटी-छोटी बूंदें पहले सा लगी पानी पर ऐसे गिरती है मानो कढाही के उबलते तेल में जीरा डाला हो, वहीँ बड़ी-बड़ी बूंदें वैसी ही है जैसे माँ छत पर कड़ी धूप में बड़ी पार रही हो.

अंदर/रात/ दो बजे

दिन भर कपडे की इस्त्री करने वाला गुरबचन थका राह सो रहा है,  उसकी बीवी उसे दोबारा के लिए उकसा रही है...
रेडियो पर गाना आ रहा है  शी... शी.. शी...शी. शी. शी... वोल्यूम कम कर...

उधर, रुनिया का बुखार आज भी नहीं उतरा... नींद में बडबडा रही है,  उसकी माँ अपना नींद तज कर माथे पर ठंढी ढूध में डुबाकर पट्टियाँ लगा रही है. उसका मरद ओसारे पर घुटने जोड़े जाने किसका नक्शा बना रहा है, बल्ब के साये में उसकी परछाई बड़ी और भयानक हो उठी है.

मेरा एक ठेठ देहाती दोस्त कहता है बिहान होने में अभी काफी वक्त है, रे सागर, सुट्टा सुलगाओ


अंदर/परीक्षा होल/ दोपहर बारह बजे

... और हाँ, श्वेता आज शैम्पू करके आई है... बाल लापरवाही से खुले हुए हैं... पसीने के बायस एक दो बाल उसकी गर्दन और पीठ पर चिपके भी हुए हैं... मेरा दिल करता है कि एक पेन्सिल उठाऊं और एक चेहरा उसके चमकते पीठ पर भी बना दूँ... इस बात का खुलासा जब मैं उससे करता हूँ तो...

 श्वेता : यह अच्छा लगेगा ?

 मैं : हाँ, क्यों नहीं.

 श्वेता : क्या मेरा एक चेहरा काफी नहीं है ?

 मैं : नहीं, तुम्हारे पास फिर भी दो ही चेहरे होंगे, अभी तो क्या है कि लोग कई चेहरे लिए घूम रहे हैं,
...
..
.
... नहीं क्या ?

Comments

  1. डाकबंगला चौराहा- पटना शहर का एक मुख्य मार्ग... राजनीतिक गतिविधियों वाला मार्ग और दुर्गा पूजा के दौरान भव्य पंडाल के लिए प्रसिध्द

    ReplyDelete
  2. कमाल का शब्द चित्र ...सब जीवंत हो उठा

    ReplyDelete
  3. Waqayi kamal ke shabd chitr hain! Ek ke baad ek chaukhat badalti gayi...!

    ReplyDelete
  4. वल्लाह!!! ये शख्स जो भरा बैठा था इतने दिनों से.. आज मौका मिलते ही उगल बैठा.. एक साथ एक ही पोस्ट में मजबूरी.. प्रेम.. आक्रोश.. मासूमियत.. अंतरागता.. सब कुछ समेट डाला जानी..!
    "आसमान गिरा है... क्या संभालूं क्या नहीं." ये कहाँ से लिख दिया रे पगले.. जबरदस्त ना कहू तो क्या कहू..?

    और श्वेता की पीठ पर चिपके बाल.. ! मोतियों के हार से नवाज़ा जाना चाहिए इस थोट को..

    और हाँ वो इतनी सारी किताबे..!" पीठ इधर ला और शाबाशी ले ले..

    ReplyDelete
  5. किताबें! कमाल है - इस पर ही किताब लिख डाली।
    भई वाह!

    ReplyDelete
  6. कुछ छिपा नहीं, सब कुछ साफ साफ।

    ReplyDelete
  7. सोचे थे सुधर जायोगे .ओर बिगड़ के लौटे हो...

    ReplyDelete
  8. आख़िरी की चार लाईनें हथौड़ा सा मार गई !!!
    साहसपूर्ण लेख !!!

    शुक्रिया

    ReplyDelete
  9. दिल-दीमाग खर्च और खुरच डाले...

    ReplyDelete
  10. डा. अनुराग की शब्द-चर्चा से यहां तक पहुंचा। यह सोचालय तो मिट्टी की गंध लिए है ! जबकि हम डर गए थे कि कहीं.... :-)

    ReplyDelete
  11. टाइप करते हो कि डायरेक्ट पोस्ट हो जाता है? :)

    ReplyDelete
  12. कहानी लिखते हो .. पोस्ट लिखते हो या चलचित्र खैंचते हो ..... बहुत जीवंत लिखते हो जैसे ये चलती फिरती दुनिया कोई केनवास बन गयी हो और तुम्हारे पात्र चल फिर रहे हों ....

    ReplyDelete
  13. जाईये आप कहाँ जायेंगे
    ये नजर लौट के फिर आएगी...

    ReplyDelete
  14. सही है..लगता है कि कुछ गलतफहमी रही होगी डॉक साब को..सागर साहब सुधरने वालों मे नही है..गये तो सो पूरे पटने को बिगाड़ के लौटे होंगे..अब दिल्ली वाले खैर मनाएँ..साहब के दिमाग की रियक्सन बड़ी फाश्ट होती है..कि अमृता के कानों की बालियों पे उँगलियाँ फिराते हुए दिमाग डाकबंगला चौराहे पे जुलूस की नब्ज भी ले आता है..और इम्तिहान के वक्त पर्चे के सवालों जवाब भी गुस्ताख आंखें सामने वाली साबुन धुली पीठ पर खोजती रहती हैं..
    उम्मीद है कि पर्चा अच्छा ही हुआ होगा... :-)

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

उसने दिल पर चीरा लगाकर उसमें अपने होंठों का प्राणवान चुम्बन के बिरवे रोप दिए।

सौ तड़कती रातें हैं फिर एक मिलन का दिन है। एक हज़ार बद्दुआएं हैं, फिर नेमत की एक घनघोर बारिश है। बारिश कम है जीवन में, प्यास अधिक। इतनी अधिक कि कई बार बारिश के दिन भी प्यास नहीं बुझती। लगातार लगती प्यास हमें मारती है, पत्थर बनाती है। सूखे प्यास का नमी भरा एहसास बारिश वाले दिन ही होता है। दरअसल आज जब मेरी प्यास बुझ रही थी तब मुझे अपने प्यासे होने का सही अर्थ संदर्भ सहित समझ में आया। xxx उसका हाथ अपने हाथ में लिया तो एक ढाढस सा लगा जैसे कोई एक सक्षम व्यक्ति कारगर उपाय बता रहा हो। वो अनपढ़ जाने किस तरह की शिक्षित है कि वह मुझ जैसे अहंकारी में भी कृतज्ञता का भाव पैदा कर देती है। xxx हमने बहुत कोशिश की एक होने की। लेकिन इसी प्रयास में हमारा यह विश्वास पुख्ता हुआ कि हमें एक दूसरे की जरूरत हमेशा रहेगी और हम अधूरे ही रहेंगे। यहां तक कि जिस जिस चुंबन में हमने अपने आप को पूरा समेट कर एक दूसरे में उड़ेल दिया, वहीं वहीं हमें अपने विकलांगता का एहसास हुआ। xxx कोई मां बाहर अपने बच्चे को मार रही है। बच्चा ज़ोर ज़ोर से किकियाए जा रहा है। मां गुस्से में उसे और धुन देती है। बच्चे

समानांतर सिनेमा

            आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, “ अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है ” . युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने ‘ बिराज बहू ’ , ‘ देवदास ’ , ‘ सुजाता ’ और ‘ बंदिनी ’ जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं . ‘ दो बीघा ज़मीन ’ को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था “ इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात

विलंबित ताल

हर ताल विलंबित है। हर कदम लेट है। कदम के रूप में एक पैर उठता है तो दूसरी ज़मीन पर रखने की दर लेट है। पेड़ों के पत्ते एक बार जब झूम कर बांए से दाएं जाते हैं तो उनका फिर से दांए से बांयी ओर जाना लेट है। आदमी घर से निकलने वाला था पर लेट है। स्टेशन से गाड़ी खुलने में लेट है। बहुत मामले रूके पड़े हैं और उनपर कार्यवाई लेट है। दफ्तर में टेबल से फाइलों का सरकना रूका है। चमत्कार होना रूका हुआ है। प्रेम होना तक मुल्तवी है। की जा रही प्रतीक्षा भी होल्ड पर है। बारिश रूकी हुई है। जाम से शहर रूका हुआ है। गाए जाने वाला गीत भी जुबां पर रूका है। किसी से कुछ कहना रूका है। किसी से झगड़ लेने की इच्छा रूकी है। किसी के लिए गाली भी हलक में रूकी हुई है। बाप से बहस करना रूक गया है। मां को घर छोड़कर भाग जाने की धमकी भी पिछले कुछ महीनों से नहीं दी गई है। लिखना रूका है। पढ़ना ठप्प है। जीना रूका पड़ा है। पेड़ों पर के पत्ते रूके हुए हैं। आसमान में चांद रूक गया है। किसी का फोन पर हैलो बोलकर रूकना, रूक गया है। कुछ हो रहा है तो उसका एहसास होना रूक गया है। सिगरेट जल्दी खत्म होना रूक गया है। बारिश अपने ब